Windows Kya Hai | Windows Operating System In Hindi 2024

Windows Kya Hai – What Is Windows

नमस्कार दोस्तों अगर यह आप कंप्यूटर या लैपटॉप का इस्तेमाल करते हैं तो आपने Windows का नाम जरुर सुना होगा क्योंकि ज्यादातर लोग अपने कंप्यूटर और लैपटॉप में Windows Operating System का इस्तेमाल करते हैं. तो आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे Windows Kya Hai(What Is Windows) और यह किसने बनाया , अब तक Windows के कितने version आ चुके हैं और आखिर यह Windows इतना फेमस क्यों है .

तो दोस्तों यह आर्टिकल आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाला है तो चलिए बिना किसी देरी के शुरू करते हैं

Windows Operating System In Hindi

तो दोस्तों विंडोज एक ऑपरेटिंग सिस्टम है और जिसको सिस्टम सॉफ्टवेयर भी कहा जाता है जिसे कि माइक्रोसॉफ्ट नाम की एक प्रसिद्ध IT कंपनी ने विकसित किया था. विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को नवंबर 1985 में रिलीज किया गया था.

माइक्रोसॉफ्ट विंडो एक बहुत ही फ्रेंडली पॉपुलर और सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है और इसके फेमस होने की वजह इसका ग्राफिकल यूजर इंटरफेस है जिसके कारण यूजर्स कंप्यूटर को आसानी से स्टार्ट , गेम्स खेलने , फाइल और फोल्डर को ऑर्गेनाइज करना , किसी भी सॉफ्टवेयर को ओपन करना , कोई भी फाइल डिलीट करना , वीडियो देखना , इंटरनेट चलाना यह काम सारे आसानी और बेहतर तरीके से कर सकता है.

तो माइक्रोसॉफ्ट ऑपरेटिंग सिस्टम के रिलीज होने से पहले यूजर ms dos ऑपरेटिंग सिस्टम की कमांड लाइन पर काम करता था जिस्म की यूजर को कंप्यूटर पर किसी भी काम को करने के लिए कमान देनी होती थी . इन कमांड्स और उनके सिंटेक्स को याद रखना काफी मुश्किल होता था.

ऐसे में एक ऐसे इंटरफेस की जरूरत हुई जिसमें यूजर आसानी से कम कर सके और ऐसे में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने विंडो को डेवलप किया

तो जैसा कि हम सभी जानते हैं कि विंडोज का मतलब खिड़की होता है . इसका नाम विंडो इसीलिए रखा गया क्योंकि इसके सारे सॉफ्टवेयर रैक्टेंगुलर बॉक्स में होते हैं यानी नॉर्मल खिड़की के shape में होते हैं तो इसीलिए इसका नाम विंडो रखा गया.

History Of Windows OS| Windows OS का इतिहास

Windows Kya Hai

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने साल 1981 में ही विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम का ऐलान कर दिया था और साथ में यह भी बता दिया था कि यह ऑपरेटिंग सिस्टम एक ग्राफिकल यूजर इंटरफेस ऑपरेटिंग सिस्टम होगा और फिर उसके बाद साल 1983 में बिल गेट्स ने विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम की घोषणा की और फाइनली 20 नवंबर 1985 को विंडो का सबसे पहले वर्जन विंडोज 1.0 मार्केट में लॉन्च किया गया और इसके बाद धीरे-धीरे कई सारे विंडो के वर्जन लॉन्च किए गए जिसमें सबसे ज्यादा पॉपुलर विंडोज XP हुआ और आजकल के समय में विंडो का सबसे नया वर्जन विंडो 11 मौजूद है जिसे साल 2021 में लॉन्च किया गया था.

विंडो के बहुत सारे वर्जन में से विंडो 7 और विंडो 10 भी काफी फेमस है. अब इसके बाद विंडो के एडवांटेज और डिसएडवांटेज के बारे में बात करते हैं.

Advantage & Disadvantage of Windows OS | Windows OS के फायदे और नुकसान

Advantage of Windows OS – Windows OS के फायदे

Windows OS के फायदे

Easy To Use : विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम की सबसे खास बात यह है कि वह बहुत आसानी से उसे हो सकता है . विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल करना दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में बहुत ही आसान है . यह ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत ही यूजर फ्रेंडली है ,किसी भी उम्र के लोग इसको आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं . यही वजह है कि विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम आज दुनिया में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है .


Software Rich : विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में आपको ज्यादा सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करने को मिलते हैं .इसकी लोकप्रियता के कारण इसको इस्तेमाल करने वाले लोग ज्यादा हैं और उनकी वजह से उतने ही ज्यादा सॉफ्टवेयर बनाने वाले भी है इसलिए विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में आपको बहुत सारे सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करने को मिलते हैं .


Software Compatibility :विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम की जो सॉफ्टवेयर कंपैटिबिलिटी है वह भी बहुत ही अच्छी है इस वजह से किसी भी तरह के सॉफ्टवेयर को इस पर अपलोड कर सकते हैं . विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम सभी तरह के सॉफ्टवेयर को सपोर्ट करता है और यदि किसी तरह का अपडेट किया जाता है तो उसको भी या सपोर्ट करता है .

Hardware Support : विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम सभी कंप्यूटर हार्डवेयर को अच्छी तरीके से सपोर्ट करता है .


Graphic User Interface : विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम एक ग्राफिकल यूजर इंटरफेस है जिसमें सभी सुविधाएं एक ग्राफिक की तरह मिलती है अगर हमको कोई सॉफ्टवेयर खोलना है तो हमको उसके आइकन पर क्लिक करना पड़ेगा और आप किसी भी सॉफ्टवेयर को आसानी से खोल सकते हैं और उसे बंद भी कर सकते हैं .

Hardware Detection : इसमें प्लग एंड प्ले फीचर के द्वारा मैक्सिमम हार्डवेयर को ऑटोमेटेकली डिटेक्ट किया जा सकता है आपको हार्डवेयर को मैन्युअल इंस्टॉल करने की आवश्यकता नहीं है अटैच होते ही यह प्रयोग के लिए तैयार हो जाता है .
गेमिंग के लिए भी विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम एक बेहतरीन ऑपरेटिंग सिस्टम है .दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए जो गेम बनाए गए हैं वह भी विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में बहुत ही अच्छी तरीके से चल जाते हैं .

Multitasking : इसके मल्टीटास्किंग की वजह से हम विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में बहुत फास्ट काम कर सकते हैं .

Automatic Update : विंडो या उसके ड्राइवर को अपडेट करने के लिए इसमें ऑटोमेटेकली अपडेट की ऑप्शन होती है जिसके द्वारा आपका भी भी आउटडेटेड ड्राइवर को अपडेट कर सकते हैं

तो दोस्तों यह तो थी कुछ एडवांटेज इसके बाद अब हम इसके कुछ नुकसान की भी बात कर लेते हैं

Disadvantage of Windows OS | Windows OS के नुकसान

Windows OS के नुकसान

Cost : जो सबसे बड़ी डिसएडवांटेज है वह यह है की विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम फ्री नहीं है इसके लिए आपको लाइसेंस खरीदना पड़ता है . साथ ही विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में कुछ सॉफ्टवेयर paid होते हैं . आपको या तो यह सॉफ्टवेयर खरीदने होते हैं या फिर इनका उपयोग करने के लिए आपको महीने का मंथली पैसा देना होता है

Security : यदि सिक्योरिटी की बात की जाए तो विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम इतनी अच्छी सिक्योरिटी नहीं देता है जितना कि बाकी ऑपरेटिंग सिस्टम देते हैं यानी कि विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम secure नहीं है हैकर आसानी से विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को तोड़ सकते हैं और उसमें रखा डाटा को चुरा सकते हैं .विंडोज में हैकर्स के अटैक ज्यादा होते हैं .

Virus attacks : बाकी ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में माइक्रोसॉफ्ट ऑपरेटिंग सिस्टम में वायरस का खतरा अधिक रहता है इसलिए यूजर को हमेशा एंटीवायरस सॉफ्टवेयर पर ही निर्भर रहना पड़ता है .

Rebooting a system : विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को हमें समय-समय पर रिबूट करना पड़ता है अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो सिस्टम हैंग होकर काम करना बंद कर देता है तो यह भी एक इसका नुकसान है .

High Computer Resource : अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम काफी मात्रा में सिस्टम रिसोर्स को कंज्यूम करता है यदि आप विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम इनस्टॉल कर रहे हैं तो आपके कंप्यूटर में हार्डवेयर , रैम कैपेसिटी बहुत ही ज्यादा हाय होनी चाहिए और हार्ड ड्राइव और अच्छा ग्राफिक कार्ड होना भी बहुत जरूरी है .

Technical Support : विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम अपने अधिकतर यूजर के लिए टेक्निकल सपोर्ट प्रोवाइड नहीं करता केवल कुछ बड़ी आर्गेनाइजेशन को ही विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम टीम से अच्छा सपोर्ट मिलता है , जनरल यूजर को अपनी प्रॉब्लम का समाधान खुद ही गूगल में जाकर ढूंढना पड़ता है और अपनी प्रॉब्लम को खुद ही सॉल्व करना पड़ता है

Examples Of Windows OS – Windows OS के उदाहरण

Windows 98

Windows XP

WIndows Vista

Windows 7

Windows 8

Windows 10

Windows 11

धन्यवाद दोस्तों आपका पढ़ने के लिए windows kya hai . मैं आशा करता हूं कि आपको सब कुछ समझ आया होगा अगर फिर भी आपको कोई परेशानी है तो आप हमको कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके बता सकते हैं. आपका दिन अच्छा हो और आप ऐसे ही कंप्यूटर सीखने रहिए.

Also Read : HACKER कैसे बनते हैं | How To Become Hacker – HINDI

Also Read : How To Learn AI In Hindi? – हम AI के बारे में कैसे सीख सकते हैं?

Leave a Comment