How To Learn AI In Hindi? – हम AI के बारे में कैसे सीख सकते हैं?

How To Learn AI In Hindi – AI और उसका पैटर्न कैसे बदल रहा है आपके ऑनलाइन अनुभव को

फेसबुक वीडियो हो इंस्टाग्राम रूल्स हो या फिर यूट्यूब शॉट इन सब चीजों में एक चीज कॉमन है इनका pattern क्योंकि आप जिस तरीके की वीडियो देखते हैं उसका अगला वीडियो ना उसी तरीके का आता है Spritual देखते हैं तो अगला शॉट इस तरीके का होता है motivational देखते हैं तो अगली reel भी वैसे ही आती है तो आखिर यह होता कैसे हैं अगर यह सवाल आपके मन में आता रहता है तो इसका जवाब है AI या फिर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (How To Learn AI In Hindi) आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का बहुत ही आसान भाषा में मतलब है

इंसानी बुद्धि की नकल मतलब जब एक मशीन या कंप्यूटर इंसान की तरह सोचने के काबिल हो और लर्निंग पैटर्न recognition और प्रॉब्लम सॉल्विंग जैसी एफिशिएंसी हासिल कर ले तो उसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कहते हैं और आज एआई की काबिलियत human कैपेबिलिटी को भी पार करने लगी है तो आज हम जानेंगे कि कैसे आप सीख सकते हैं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बारे में अब इस आर्टिकल को ही देखिए

क्यों आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस दुनिया बदल रहा है

India में AI का बढ़ता सक्सेस – Growing success of AI in India

How To Learn AI In Hindi

बैंकिंग सेक्टर इसे फ्रॉड डिटेक्शन के लिए यूज कर रहा है , इंश्योरेंस कंपनीज अपनी पॉलिसी कोड्स देने के लिए और claim प्रोसेस करने के लिए कर रही हैं , पुलिस सर्विस में सीसीटीवी फुटेज के सहारे क्रिमिनल्स को पकड़ने के लिए एआई यूज हो रहा है ,मेडिकल साइंस जानलेवा बीमारियों की दवाइयां बनाने के लिए और इलाज ढूंढने के लिए एआई पर भरोसा कर रहा है. वैसे लिस्ट तो बहुत लंबी है तो एआई की पढ़ाई करके आप इस फील्ड में अपना सक्सेसफुल करियर बना सकते हैं

(How To Learn AI In Hindi) कैसे चलिए समझते हैं टेक इंडस्ट्री के साथ-साथ भारत एआई का टैलेंट हब भी बनता जा रहा है अगस्त 2023 तक यहां पर लगभग 4 लाख 16 हजार एआई प्रोफेशनल्स हैं पर डिमांड लगभग 6 लाख 29 हजार एआई प्रोफेशनल्स की है .

2026 तक यह डिमांड बढ़ते बढ़ते 1 मिलियन तक पहुंच जाएगी यानी डिमांड और सप्लाई में बहुत ज्यादा गैप है यह आपके लिए और आने वाली जनरेशन के लिए एक गोल्डन अपॉर्चुनिटी है कि खुद को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की ओर मोड़ा जाए और अपना ब्राइट करियर बनाया जाए क्योंकि आईआईएम अहमदाबाद की एक सर्वे में पता चला है कि दुनिया भर के एआई प्रोफेशनल्स में इंडिया के सिर्फ 4.5 लोग ही शामिल हैं

अगर हम यह नंबर बढ़ा पाए तो एआई के एरिया में भी इंडिया वर्ल्ड लीडर बन सकता है क्योंकि आने वाले 5 सालों में इंडिया को लगभग 30000 आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी कि एआई और मशीन लर्निंग यानी कि एमएल(ML) स्पेशलिस्ट की जरूरत है

अगर यूएसए की बात की जाए तो यूएस ब्यूरो ऑफ लेबर स्टेटिस्टिक्स के मुताबिक एक्सपीरियंस्ड एआई इंजीनियर्स की मिड रेंज एनुअल सैलरी लगभग $5 लाख तक होती है और इस फील्ड में जॉब ओपनिंग 2028 पर तक बढ़ेंगी तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक किताब है और इसके कई मेजर चैप्टर्स हैं

उन्हें समझ लीजिए तो एआई सीखना आसान हो जाएगा और इसके चार मेजर विंग्स है

  • डेटा साइंस
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस
  • मशीन लर्निंग
  • डीप लर्निंग

चलिए इन्हें ब्रेक डाउन करके समझते हैं तो बेसिकली एआई एक ब्रॉड कांसेप्ट है जो इंटेलिजेंट मशीनस बिल्ड करता है मशीन लर्निंग यानी कि एमएल(ML) एआई का एक सबसेट है जहां पर मशीनस डाटा से अपनी लर्निंग करते हैं और यहां डिटेल प्रोग्रामिंग की जरूरत नहीं पड़ती है इसके बाद मशीन लर्निंग का सबसेट है डीप लर्निंग जहां न्यूरल नेटवर्क्स के जरिए एक मशीन या सिस्टम human ब्रेन की नकल करता है ताकि patterns को ढूंढ सके और decisions ले सके और आखिर में डाटा साइंस में शामिल है

एआई(AI) और मशीन लर्निंग(ML) मेथड्स जहां पर कई और मेथड्स और डिसिप्लिन इवॉल्वड किए जाते हैं जो डाटा से इंसाइट्स यानी कि काम की जानकारी निकालते हैं इसलिए एआई(AI) को इफेक्टिवली सीखने के लिए आपको इन सभी प्रोसेसेस के बीच के इंटरकनेक्शंस को समझना होता है .

AI में करियर कैसे बनाएं: इंजीनियरिंग कॉलेज से लेकर आगे की पढ़ाई

How to learn ai in hindi

इंडिया में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इंजीनियरिंग पढ़ने का सबसे अच्छा तरीका है किसी अच्छी इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लेना इसके लिए सबसे कॉमन एग्जाम है जेईई(JEE) या जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन में अच्छी रैंक के साथ जब आपको किसी अच्छे कॉलेज में एडमिशन मिल जाता है तो आईटी कंप्यूटर साइंस में आगे बढ़ते हुए आपको आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पढ़ने का मौका मिलता है अपने इंजीनियरिंग के दौरान जो कैंडिडेट्स आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को चूज करते हैं

उनके सिलेबस में प्रोग्रामिंग फॉर एआई , कंप्यूटर आर्किटेक्चर , आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस फाउंडेशन ऑफ मशीन लर्निंग , अप्लाइड स्टेटिस्टिक्स , कंप्यूटर नेटवर्क्स , न्यूरल नेटवर्क एंड डीप लर्निंग , रोबोटिक्स नेचुरल लैंग्वेज , प्रोसेसिंग रिइंफोर्समेंट लर्निंग , बिग डाटा और डिजाइन एंड एनालिसिस ऑफ एल्गोरिथम्स शामिल है

इसके अलावा वर्कशॉप्स और प्रोजेक्ट वर्क्स भी होते हैं वैसे ByteVidya पे आपको हाउ टू बिल्ड करियर इन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस नाम से एक article भी मिल जाएगा उसे पड़ीएगा जरूर

चलिए समझते हैं स्टेटिस्टिक्स जिसे हिंदी में आंकड़ा कहते हैं स्टेटिस्टिक्स को मशीन लर्निंग का बैकबोन कहा जाता है और यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का बेहद जरूरी हिस्सा है इसके लिए स्टेटिस्टिक्स डिस्ट्रीब्यूशन और कंसेप्ट जैसे स्टैंडर्ड डेविएशन और वेरियंस को समझना होता है इनकी गहरी समझ होने पर ही के इंजीनियर एआई सिस्टम्स को गाइड कर पाता है ताकि डाटा से ड्राइंग इन फरेंसेक्स मैथमेटिक्स कंप्यूटर साइंस के किसी भी स्टूडेंट का मैथ में स्ट्रांग होना तो बहुत ही जरूरी है क्योंकि मशीन लर्निंग एल्गोरिथम्स के फंक्शंस इंप्लीमेंट और एग्जीक्यूशन में मैथमेटिक्स का सॉलिड फाउंडेशन जरूरी है

जैसे कि लीनियर अलजेब्रा कैलकुलस , प्रोबेबिलिटी थ्योरी और ऑप्टिमाइजेशन मेथड्स , प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में ARS को इफेक्टिवली काम करवाना हो , कॉम्प्लेक्टेड परफॉर्म करवाना ,रेंडम बस और इरेगुलेरिटीज को समझना और अल्टीमेटली मशीन लर्निंग मॉडल्स को ऑप्टिमाइज करने में मैथ चाहिए तभी तो आप अपने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मॉडल को रन कर पाएंगे इसके अलावा एक एआई experience और adaptability भी होनी चाहिए क्योंकि एआई एक कॉम्प्लेक्शन सेप्ट्स टूल्स एंड टेक्निक्स आते रहते हैं इसलिए वह जो लोग एआई में अपना करियर बनाना चाहते हैं उनमें हमेशा कुछ नया सीखने की चाहत और प्रॉब्लम सॉल्विंग माइंडसेट होना चाहिए .

Python और R : एआई और डेटा साइंस में करियर बनाने के लिए टॉप प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस

कोर स्किल्स के तौर पर प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस में महारती होना भी जरूरी है जैसे पाइथन python2 लैंग्वेज फॉर एआई भी कहा जाता है यह जितना पावरफुल लैंग्वेज है उतना ही बिगिन फ्रेंडली लैंग्वेज भी है इसीलिए इसे मशीन लर्निंग मॉडल्स को इंप्लीमेंट करने के लिए बहुत ज्यादा यूज किया जाता है इंडिया में की बहुत ज्यादा डिमांड है एक जॉब सर्चिंग पोर्टल पर मशीन लर्निंग python3 से ज्यादा जॉब्स ओपनिंग दिखाई देंगी अगला है

आर(R – Programming Language) यह भी एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसे डेटा साइंस के फील्ड में बहुत ज्यादा यूज किया जाता है R – Programming Language को स्टेटिस्टिक्स और इंगेजिंग डाटा विजुलाइजेशन के लिए एक अच्छी लैंग्वेज माना जाता है

पाइथन के मुकाबले R – Programming Language को सीखना थोड़ा मुश्किल है पर वह एआई एस्पिरिस जो एआई और डाटा साइंस दोनों में एक्सपर्ट बनना चाहते हैं उन्हें तो R – Programming Language जरूर से सीखनी ही चाहिए जॉब सर्चिंग वेबसाइट्स पर R – Programming Language प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से भी जुड़ी ढेर सारी जॉब ओपनिंग आपको मिल जाएंगी क्योंकि इंडिया में अभी लगभग 51 पर एआई प्रोफेशनल्स की कमी है तीसरा है कि एक और जहां पाइथन और R – Programming Language को एआई मशीन लर्निंग और डेटा साइंस के लिए बेस्ट माना जाता है वहीं जावा और c++ से एफिशिएंट लो लेवल मशीन कंट्रोल मिलता है .

जिससे स्केलेबल मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मॉडल्स बनाने में काफी आसानी होती है इसलिए जावा और c++ भी एआई के लिए कंसीडर किए जाते हैं साथ ही जावा लैंग्वेज के साथ मशीन लर्निंग डेवलपर, एआई इंजीनियर, एआई कंसल्टेंट प्रोमट इंजीनियर, सॉफ्टवेयर इंजीनियर जैसे रूल्स डिमांड में रहते हैं

जावा की डिमांड का एग्जांपल दें तो fortune4 कंपनी में हमेशा जावा लैंग्वेज यूज होती है अब आप यह सभी लैंग्वेजेस अपने इंजीनियरिंग के दौरान और ऑनलाइन दोनों तरीके से सीख सकते हैं कोड अकेडमी, कोर्सरा फ्री कोड कैंप जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स के साथ-साथ बहुत सी youtube channels भी हैं जो प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस को सिखाते हैं लेकिन काम इतने से ही नहीं चलेगा एक एआई एस्पिर को प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस के अलावा बहुत से सपोर्टिंग टूल्स और लाइब्रेरीज में भी एक्सपर्ट होना होता है

AI टॉप टूल्स: Panda, NumPy, SciKit, PyTorch, और Keras

How To Learn AI In Hindi ?

जैसे पांडा(Panda) एक सॉफ्टवेयर टूल है जो python’s के साथ एक एआई प्रैक्टिशनर का वेल व्सड होना जरूरी है दूसरा है NumPy यह भी एक पाइथन लाइब्रेरी है जो Arrays के साथ काम करते हुए यूज होता है लीनियर अलजेब्रा ,फरियर ट्रांसफॉर्म और मैट्रिक्स के साथ काम करते हुए भी नम पाई(NumPy) फंक्शंस की जरूरत पड़ती है

तीसरा है SciKit भी एक लाइब्रेरी है जो कि मशीन लर्निंग में काम आती है इसके साथ वेक्टर मशीनस , रैंडम फॉरेस्ट और K – neighbours जैसे एल्गोरिथम्स काम आते हैं इसके अलावा यह पाइथन के न्यूमेरिकल और साइंटिफिक लाइब्रेरीज जैसे नम पाई(NumPy) और SciKit को सपोर्ट करता है

पाई टर्च(Py Torch) जो कि एक और लाइब्रेरी है जो मशीन लर्निंग और डीप लर्निंग मॉडल्स को मैक्सिमम फ्लेक्सिबल और स्पीड देता है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंगयानी कि एनएलपी(NLP) के लिए यह एक हेल्पिंग टूल है आसान भाषा में समझे तो जितने भी वॉइस कमांड वाले टूल्स एंड एप्लीकेशंस होते हैं वह इंसानी भाषा को नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग के जरिए ही समझते हैं और जवाब देते हैं

ऑटो करेक्ट फीचर्स आपकी ईमेल अकाउंट में स्पैम जैसे मेल्स को फिल्टर करने में और सर्च इंजन को इंप्रूव करने में नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग की जाती है अगला है केरा(Keras) यह एक यूजर फ्रेंडली न्यूरल नेटवर्क लाइब्रेरी है जिसकी कोडिंग पाइथन में की गई है किसी भी फ्रेश एआई लर्नर के लिए केरा(Keras) एक easy टू यूज और बहुत ही इजली समझ में आने वाली लाइब्रेरी है अब लगे हाथ यह भी समझ लीजिए कि न्यूरल नेटवर्क क्या होता है

AI Expert बनने के लिए RoadMap: मैथमेटिक्स, प्रोग्रामिंग, और डेटा स्ट्रक्चर्स की तैयारी

How To Learn AI In Hindi

एक न्यूरल नेटवर्क मशीन लर्निंग यानी कि एमएल मॉडल होता है जिसे डिजाइन किया जाता है इंसानी दिमाग की नकल करने के लिए यह एक तरह का human ब्रेन डिजाइन होता है जो एआई मॉडल को इंसानों की तरह काम करने के काबिल बनाता है अब एआई एक्सपर्ट बनने के लिए अगर आपने अपना गोल सेट कर ही लिया है

तो उस तक पहुंचने के लिए जरूरी है एक रोड मैप आप अपना खुद का रोड मैप भी बना सकते हैं वैसे यहां पर हम एक रोड मैप आपको सजेस्ट कर रहे हैं सबसे पहले तो आपको तीन महीने अपने बेसिक्स पर देने होंगे जिसमें आपको बेसिक्स ऑफ मैथमेटिक्स प्रोग्रामिंग(Mathematics Programming) , डेटा स्ट्रक्चर्स(Data Structures) और Data Manipulation सीखना चाहिए

इसके लिए अगर आप ऑनलाइन प्लेटफार्म से सीखना प्रेफर करते हैं तो मैथमेटिक्स और स्टेटिस्टिक्स सीखने के लिए खान अकेडमी(Khan Academy) या कोर्सरा(Coursera) जैसे प्लेटफॉर्म्स को चूज कर सकते हैं पाइथन सीखने के लिए आप कोड एकेडमी(Code Academy) या लीड कोड पर भी जा सकते हैं और यहां पर आपको प्रोग्रामिंग टास्क सॉल्व करना सीखना होगा और डाटा स्ट्रक्चर्स के लिए गीक्स फॉर गीक्स(GeeksforGeeks) पर भी आप जा सकते हैं

अपने रोड मैप के दूसरे फेज में चौथे से छठे महीने तक एआई और मशीन लर्निंग के एडवांस्ड रिसोर्सेस और प्रोजेक्ट्स पर काम करना होगा ताकि आप अपनी एआई स्किल्स को डेवलप कर सके इसके बाद मशीन लर्निंग कांसेप्ट को समझने के लिए आप कोर्सरा(Coursera) पे andrew ng का कोर्स भी जवाइन कर सकते हैं लगे हाथ आप SciKit लर्न पे मशीन लर्निंग प्रोजेक्ट्स पर भी काम कर सकते हैं तो जब मशीन लर्निंग के कॉन्सेप्ट्स आपको क्लियर हो जाए तो आप बेसिक्स ऑफ डीप लर्निंग के साथ आगे बढ़ सकते हैं इसके लिए

सबसे इजी टू यूज प्लेटफॉर्म है केरस (Keras) या केरस अगले फेज यानी कि सातवें से नौवें महीने में एआई Aesperant को एडवांस्ड एआई टॉपिक्स में स्पेशलाइजेशन हासिल कर लेनी चाहिए इसके लिए प्रोजेक्ट्स में इवॉल्वमेंट और डीप डाइविंग जरूरी है जो हासिल हो सकता है PyTorch जैसी लाइब्रेरीज को सीखकर साथ ही आपको इमेज रिकॉग्निशन और नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग जैसे एडवांस्ड एआई प्रोजेक्ट्स में हाथ आजमाना होगा

10वें महीने से कांस्टेंट लर्निंग और एक्सप्लोरेशन करते रहना होगा इसके लिए आपको ग्लोबल एआई कंपटीशन और लार्ज स्केल प्रोजेक्ट्स का हिस्सा बनना होगा लेकिन पहले सॉलिड फाउंडेशन जरूरी है और एआई के नीश(Niche) एरियाज जैसे रिइंफोर्समेंट लर्निंग और जनरेट एआई में एक्सपर्टीज होनी चाहिए नेशनली या इंटरनेशनली अगर बैचलर्स डिग्री इन अप्लाइड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मास्टर्स डिग्री इन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और और एमबीए इन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसे कोर्स में एनरोल होने का
मौका आपको मिल रहा है तो आप एआई एक्सपर्ट बन सकते हैं

Opportunities for AI Education and Certification in India

How To Learn AI In Hindi
How To Learn AI In Hindi

अपने देश की अगर बात करें तो आईआईटी दिल्ली, आईआईटी हैदराबाद , चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, डी वाई पाटिल इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी , लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी , पारुल यूनिवर्सिटी जैसे ढेर सारे इंस्टीट्यूट्स और यूनिवर्सिटीज हैं जहां से आप आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की पढ़ाई कर सकते हैं और डिग्री भी ले सकते हैं इसके अलावा आपको अपने एंड से भी रिसर्च करनी होगी कि आप कहां से अपनी इंजीनियरिंग कर सकते हैं अब कुछ एआई से जुड़े सर्टिफिकेशंस की बात की जाए जिनके साथ आप सर्टिफाइड एआई एक्सपर्ट बन सकते हैं

तो जैसे हर साल ढेर सारे रिसर्च पेपर्स इश्यूज करती है जिसमें एआई के बहुत से टॉपिक्स कवर्ड होते हैं google’s कोर्स है जो कि फ्री है और इंट्रोडक्शन टू मशीन लर्निंग कोर्स भी है 15 घंटे के इस कोर्स को करने के लिए पाइथन और नम पाई लाइब्रेरीज की नॉलेज आपको होनी चाहिए आप अगर linked-list इंटेलिजेंस फाउंडेशन कोर्स के साथ आप एआई मॉडल्स को रन करना सीख पाएंगे साथ ही डीप लर्निंग इमेज रिकॉग्निशन कोर्स के जरिए आप इन डेप्थ सर्टिफिकेशन भी कर सकते हैं इसके लिए आपको पाइथन और टेंसर फ्लो की नॉलेज होनी चाहिए

deeplearning.ai भी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सीखने के लिए एक बहुत ही अच्छा प्लेटफार्म है यहां पर आपको हाई रेटेड एआई प्रोग्राम्स मिल जाएंगे जैसे एआई फॉर गुड नाम से इंट्रोडक्टरी कोर्स भी है और इंटरमीडिएट एंड एडवांस्ड कोर्सेस भी हैं साथ ही नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग नाम से फ्री कोर्स भी है बस इसमें एनरोल होने के लिए स्टूडेंट के पास मशीन लर्निंग और इंटरमीडिएट पाइथन प्रोग्रामिंग स्किल्स होनी चाहिए माइक्रोसॉफ्ट भी एआई प्रोफेशनल्स के लिए कोर्स प्रोवाइड करता है

माइक्रोसॉफ्ट एजर एआई इंजीनियर एसोसिएट सर्टिफिकेशन कोर्स अगर आप पूरा करते हैं तो आप एजर प्लेटफॉर्म एंड एजर कॉग्निटिव सर्विसेस बिल्ड मैनेज और एआई एप्लीकेशंस डिप्लॉयड साइंटिस्ट एक्सपर्ट्स जो मशीन लर्निंग के लिए R – Programming Language को यूज करना चाहते हैं उनको माइक्रोसॉफ्ट से ट्रेनिंग मटेरियल भी दिए जाते हैं

एजर डाटा साइंटिस्ट एसोसिएट कोर्स को लेना फायदेमंद है जो मशीन लर्निंग मॉडल्स की पूरी जानकारी आपको देता है डीप लर्निंग न्यूरल नेटवर्क्स और मशीन लर्निंग एल्गोरिथम सीखने के लिए अगर आप कोई फ्री कोर्स ढूंढ रहे हैं

तो आईबीएम एआई इंजीनियरिंग आप कर सकते हैं इस कोर्स में पाई टॉर्च(PyTorch) और टेंसर फ्लो(Tensor Flow) के जरिए डीप लर्निंग मॉडल्स बनाना सिखाया जाता है हर हफ्ते 10 घंटे की क्लास अटेंड करके आप यह कोर्स दो महीने में कंप्लीट कर सकते हैं इसके अलावा आईबीएम(IBM) के पास अप्लाइड एआई प्रोफेशनल प्रोग्राम भी है इससे स्टूडेंट्स मिनिमम कोडिंग के साथ एआई एप्लीकेशंस बिल्ड करना सीखते हैं

इनके अलावा भी एआई कोर्स – स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी डीप लर्निंग स्पेशलाइजेशन – एंड्रू एनजी कोर्स एरा का एआई फॉर एव्री वन और पाइथन फॉर डाटा साइंस एंड एआई बाय आईबीएम जैसे कोर्सेस के साथ जुड़ना भी आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है भले ही आज हम ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स पर और वीडियो ट्यूटोरियल्स देख कर के सीखना पसंद कर रहे हैं पर इसका यह मतलब बिल्कुल भी नहीं है कि एआई के ऊपर अच्छी किताबें नहीं है बिल्कुल है :-

जैसे पीटर ली कैरी गोल्डबर्ग और आइजक कोहन की किताब द एआई रेवोल्यूशन जैसी किताबें भी काफी हेल्पफुल है अगर आप चीट शीट से भी नॉलेज बटोर नाचाहते हैं तो पाइथन फॉर डाटा साइंस चीट शीट स्टैनफोर्ड मशीन लर्निंग चीट शीट और डीप लर्निंग चीट शीट भी सर्च कर सकते हैं तो आई होप आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस या एआई कैसे सीखे यह अब तक आपको क्लियर हो चुका होगा

तो देर किस बात की आप झट से शुरू कर दीजिए एंड जहां पर भी आप सीख रहे हैं उनकी मेहनत के लिए एक थैंक्स तो बनता है इसी के साथ अपना प्यार अपना सपोर्ट ByteVidya की टीम के लिए कमेंट सेक्शन में देते रहिए अगला कौन सा टॉपिक है जिसके बारे में आप जानना चाहते हैं लिख भेजिए और शेयर करना बिल्कुल भी ना भूलें

मैं हूं रूबी आपसे मुलाकात होगी जल्दी ही तब तक के लिए कहूंगी धन्यवाद

Leave a Comment